टेली मेडिसीन पद्धति का मरीजों को नहीं मिल रहा लाभ

Sep 21, 2022 Off By French

लखीसराय।ग्रामीणक्षेत्रकेगरीबतबकेकेगंभीररोगसेग्रसितलोगोंकोस्वास्थ्यउपकेंद्रएवंअतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रपरहीबेहतरस्वास्थ्यसुविधाउपलब्धकरानेकोलेकरसरकारनेई-संजीवनीप्रणालीकीव्यवस्थाकीहै।इसकेतहतसप्ताहमेंतीनदिनसोमवार,गुरुवारएवंशनिवारकोई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेवीडियोकान्फ्रेंसिगकेमाध्यमसेमरीजोंकाइलाजविशेषज्ञडॉक्टरअथवाजिलेकेचुनिदाडॉक्टरसेसंपर्कस्थापितकराकरकरायाजानाहै।ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेमरीजोंकाइलाजसुनिश्चितकरानेकोलेकरप्रथमचरणमेंजिलेकेएकअतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रएवंनौस्वास्थ्यउपकेंद्रकाचयनकियागयाहै।इसकोलेकरजिलेकेविभिन्नअस्पतालोंपांचचिकित्सकोंकाचयनकियागयाहै।इसकोलेकरसदरअस्पतालसहितचारअस्पतालोंमेंलैपटॉपकेसाथडाटाऑपरेटरएवंजिलेकेचिह्नितदसस्वास्थ्यसंस्थानोंमेंहबएंडस्कोपप्रणालीसेटेलीमेडिसिनकीसुविधाउपलब्धकराईगईहै।20फरवरीकोमुख्यमंत्रीनीतीशकुमारद्वारापटनासेइसकाशुभारंभकियागया।जबकिस्थानीयस्तरपरजिलाधिकारीसंजयकुमारसिंहद्वारासदरअस्पतालमेंकार्यक्रमकाशुभारंभकियागया।परंतुई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीदिखावासाबितहोरहीहै।मरीजोंकोइसकालाभनहींमिलपारहाहै।

ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीकामरीजोंकोनहींमिलरहालाभ

ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीकेमाध्यमसेजिलेकेअच्छेडॉक्टरसेइलाजकरानेकीमंशासेमरीजसंबंधितस्वास्थ्यसंस्थानतोपहुंचतेहैं।परंतुघंटोंइंतजारकेबादभीडॉक्टरसेसंपर्कनहींहोपाताहै।ड्यूटीपरमौजूदनर्सलिकफेलरहनेअथवानेटनहींरहनेकाबहानाबनाकरमरीजोंकोबैरंगवापसघरभेजदेतेहैं।कुछमरीजोंचिकित्सकसेसंपर्कतोहोजाताहैपरंतुइलाजनहींहोपाताहै।मरीजोंकीसमस्याकोसुननेकेबादचिकित्सककुछदवाबताकरमरीजोंकोफेस-टू-फेसमिलनेकीसलाहदेतेहैं।इसकारणमरीजोंकाई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेइलाजकरानेकेप्रतिमोहभंगहोनेलगाहै।अबयदा-कदाहीमरीजचिह्नितस्वास्थ्यसंस्थानपहुंचतेहैं।

ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेमरीजोंकेइलाजकरनेकीव्यवस्था

हबएंडस्कोपप्रणालीसेमिलेगीटेलीमेडिसिनसुविधाई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)केतहतमरीजसंबंधितस्वास्थ्यउपकेंद्रकीएएनएमकोकॉलकरेंगे।इसकेबादएएनएममरीजसेबीमारीसेसंबंधितजानकारीलेकरजिलेकेविशेषज्ञडॉक्टरकोफारवर्डकरेंगी।इसमेंविशेषज्ञचिकित्सकपालीवारवीडियोकान्फ्रेंसिगकेमाध्यममरीजोंकाइलाजकरेंगे।

अतिरिक्तप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रगेरूआपुरसंडा

स्वास्थ्यउपकेंद्रनथनपुर

स्वास्थ्यउपकेंद्रबहरामास्वास्थ्यउपकेंद्रदामोदरपुर

स्वास्थ्यउपकेंद्रवलीपुर

स्वास्थ्यउपकेंद्ररहाटपुर

स्वास्थ्यउपकेंद्रगरसंडा

स्वास्थ्यउपकेंद्रनंदनामा

स्वास्थ्यउपकेंद्रगरीबनगरस्वास्थ्यउपकेंद्रकिरणपुर

ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीकेमाध्यमसेमरीजोंकाइलाजकरनेकेलिएचयनितडॉक्टर

सदरअस्पतालकेडॉक्टरबिपिनकुमारएवंशिशुरोगविशेषज्ञडॉक्टरराकेशकुमार

सामुदायिकस्वासथ्यकेंद्रसूर्यगढ़ाकेडॉ.राजीवकुमार

सामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रहलसीकेडॉ.एरहमान

पीएचसीलखीसरायकेडॉ.प्रभातकुमार

इनमेंसेएकमात्रडॉ.राकेशकुमारविशेषज्ञ(शिशुरोगविशेषज्ञ)हैं।शेषचारडॉक्टरसामान्यफिजिसियनहैं।

एकओरसिविलसर्जनद्वाराई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेमरीजोंकाइलाजकरनेकीजिम्मेदारीदीगईहै।वहींदूसरीओरई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीकेमाध्यमसेइलाजकरनेकेसमयमेंहीअस्पतालप्रशासनद्वाराओपीडीअथवाइमरजेंसीड्यूटीलगादीजातीहै।ऐसीस्थितिमेंओपीडीअथवाइमरजेंसीमेंहीमरीजोंकाइलाजकरनेमेंव्यस्तहोजातेहैं।ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेइलाजकरनेकेलिएवीडियोकांन्फ्रेंसिगहॉलपहुंचनेपरभीप्राय:लिकफेलरहनेकेकारणकार्यनहींहोपाताहै।ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीशुरूहोनेकेकरीब25दिनमेंसदरअस्पतालमेंवीडियोकान्फ्रेंसिगकेमाध्यमसे54मरीजोंकोसलाहएवंइलाजकियाजाचुकाहै।

डॉ.बिपिनकुमार,चिकित्सापदाधिकारी,सदरअस्पताल

ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीकोजल्दीहीव्यवस्थितकरग्रामीणक्षेत्रकेमरीजोंकोइसकालाभदिलायाजाएगा।इसकेलिएप्रयासजारीहै।ई-संजीवनी(टेलीमेडिसिन)प्रणालीसेइलाजकरनेकेसमयमेंसंबंधितचिकित्सकोंकाओपीडीअथवाइमरजेंसीमेंड्यूटीनहींलगानेकासंबंधितअस्पतालप्रशासनकोनिर्देशदियाजाएगा।

डॉ.आत्मानंदकुमार,सिविलसर्जन,लखीसराय